मन्दिर न्यास द्वारा चयनित स्थल पर ही होगा भण्डारे का आयोजन, पूर्व में लेना होगी अनुमति

नाहन 10 मार्च – प्रसिद्ध मां बाला सुंदरी चैत्र नवरात्र मेला त्रिलोकपुर में आगामी 2 अप्रैल से शुरू होकर 16 अप्रैल 2022 तक चलेगा। मेले के आयोजनों से जुड़े विभिन्न प्रबंधों की समीक्षा तथा मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने के दृष्टिगत एक बैठक का आयोजन आज यात्री निवास त्रिलोकपुर में उपायुक्त सिरमौर राम कमार गौतम की अध्यक्षता में किया गया।
बैठक में उपायुक्त ने कहा कि मेले के दौरान श्रद्धालुओं को हर सम्भव सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए मंदिर न्यास निरंतर प्रयासरत रहा है। उन्होंने बताया कि मेले के प्रभावी प्रबंधन को लेकर मेला क्षेत्र को चार सेक्टरों में विभाजित किया जाएगा और प्रत्येक सेक्टर में ड्यूटी मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारी नियुक्त रहेंगे। मेले के दौरान श्रद्धालुओं को कोविड नियमों की अनुपालना करनी होगी, जिसमें विशेषकर मास्क पहनना अनिवार्य होगा तभी श्रद्धालुओं को माता के दर्शन की अनुमति दी जाएगी।
मेले के दौरान सभी अधिकारी आपसी तालमेल के लिए वॉकी-टॉकी का इस्तेमाल करेंगे। मेले के दौरान कानून एवं व्यवस्था और ट्रैफिक व्यवस्था के लिए पुलिस जवानों के अतिरिक्त होमगाड के जवानों की भी तैनाती रहेगी। मेले के दौरान ट्रैफिक व्यवस्था को इस तरीके से बनाया जाएगा जिससे त्रिलोकपुर के स्थानीय निवासियों को भी असुविधा का सामना ना करना पड़े। उन्होंने लोक निर्माण, जलशक्ति तथा उद्योग विभाग को निर्देश दिये कि 31 मार्च 2022 से 16 अप्रैल 2022 तक कालाअंम्ब से त्रिलोकपुर सडक के आस-पास कोई भी मुरम्मत व रख-रखाव से सम्बन्धित कार्य न हो। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए जलशक्ति विभाग समय-समय पर सडकांे पर पानी का छिड़काव करवाना सुनिश्चत करेंगे। खाद्य सुरक्षा एवं गुणवत्ता तथा मापतोल नियन्त्रण तथा खाद्य एवं आपुर्ति विभाग सुनिश्चित करेंगे कि मेले के दौरान खाद्य पदार्थ तथा फल व सब्जियों की आपूर्ति पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो तथा खाने पीने की वस्तुएं ढ़की हुई हों।
बैठक के दौरान साफ-सफाई को लेकर भी विस्तार से चर्चा की गई। बैठक में काला अंब से त्रिलोकपुर तक यातायात नियंत्रण, वैकल्पिक मार्ग व्यवस्था, सूचना केंद्र की स्थापना, आपातकालीन स्वास्थ्य व्यवस्था, स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता, मेला क्षेत्र की साज-सज्जा व विद्युतीकरण, परिवहन सुविधा और आपदा प्रबंधन को लेकर भी विचार विमर्श किया गया।
बैठक में बताया गया कि मन्दिर न्यास द्वारा चयनित स्थल पर भण्डारे का आयोजन करवाने के लिए पूर्व में ही अनुमति लेना अनिवार्य होगा तथा सड़क के बाहर भण्डारा लगाने पर पूर्णतया प्रतिबंध रहेगा। भण्डारे के दौरान थर्माेकॉल व प्लास्टिकस के प्रयोग पर भी प्रतिबंध रहेगा। मेले मे पूर्णमासी के दिन दंगल का आयोजन भी करवाया जायेगा। मेले के दौरान अगर कोई श्रद्धालु सेवा भाव से कार्य करना चाहता हो तो वह 1077 पर सम्पर्क कर अपना पंजीकरण करवा सकता है।
बैठक में पुलिस अधीक्षक सिरमौर ओमापति जमवाल, आदेशक गृह रक्षा भूपेंद्र सिंह कंवर, प्रधान ग्राम पंचायत त्रिलोकपुर धीरदत्त रजनीकांत बाला, संयुक्त आयुक्त मंदिर न्यास रजनेश कुमार, तहसीलदार मायाराम शर्मा, न्यास के गैर सरकारी सदस्य और विभिन्न विभागों के अधिकारी भी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here