फोरलेन के काम में देरी बर्दाश्त नहीं, समीक्षा के दौरान बोले सीएम सुखविंदर सुक्खू

सडक़ परियोजनाओं के निर्माण कार्यों की समीक्षा के दौरान बोले सीएम सुखविंदर सुक्खू
मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने गुरुवार को हिमाचल प्रदेश में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, भूतल परिवहन मंत्रालय तथा हिमाचल प्रदेश लोक निर्माण विभाग द्वारा निर्मित की जा रही विभिन्न फोरलेन परियोजनाओं तथा अन्य निर्माणाधीन परियोजनाओं के कार्यों की समीक्षा की।
मुख्यमंत्री ने विभागों को विकासात्मक कार्यों में गुणवत्ता सुनिश्चित करते हुए निर्धारित समय सीमा में पूरा करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने एनएचएआई अधिकारियों को शिमला-मटौर तथा मंडी-पठानकोट सडक़ों को पूर्ण रूप से फोरलेन में विकसित करने के निर्देश दिए। उन्होंने दोनों फोरलेन परियोजनाओं की सुंदरता बढ़ाने तथा अनावश्यक रूप से पहाडिय़ों को काटने के लिए सुरंगों के निर्माण पर बल दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिमला से नौणी सडक़ का निर्माण कार्य इस वर्ष मानसून के बाद शुरू किया जाएगा।

सितंबर, 2026 तक इस कार्य के पूरा होने की उम्मीद है। सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि पिंजौर-नालागढ़-बद्दी फोरलेन के निर्माण कार्य में तेजी लाई जाएगी, ताकि इस क्षेत्र में उद्योगों को लाभान्वित किया जा सके। उन्होंने इस परियोजना को वर्ष 2025 के अंत तक पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने शिमला बाइपास परियोजना, शिमला-सोलन फोरलेन व मंडी-हमीरपुर और पांवटा-शिलाई सडक़ों को चौड़ा करने और इनके सुदृढ़ीकरण की भी समीक्षा की। लोक निर्माण मंत्री विक्रमादित्य सिंह, मुख्य सचिव प्रबोध सक्सेना, अतिरिक्त मुख्य सचिव ओंकार चंद शर्मा, प्रधान सचिव देवेश कुमार, अमनदीप गर्ग, सचिव राकेश कंवर, एनएचएआई के क्षेत्रीय अधिकारी अब्दुल बासित, पीडब्ल्यूडी के प्रमुख अभियंता एनपी सिंह भी बैठक में उपस्थित थे।